क्या सुनाऊँ तुझे

क्या सुनाऊँ तुझे

काश ख़ुदा करे,
रहूँ जुस्तुजू में तेरी, और फिर न पाऊँ तुझे
मगर ये हो नहीं सकता कि भूल जाऊँ तुझे
छाई रहे तू मेरी रूह पे इस क़दर
मैं नाउम्मीद के लम्हों में गुनगुनाऊँ तुझे

ये मुक्कदर, ये तक़दीर कभी तो दिखलाएगी
तू भुलाना चाहे मुझे, मैं रह-रह के याद आऊँ तुझे
तू फ़स्ल-ए-गुल की माफ़िक ख़ुशबुएँ लुटाती रहे
मैं शोख़ फ़िज़ाओं की तरह गुदगुदाऊँ तुझे

यूँ तो मैं तमाम रात आँखों में काट दूँ
मगर सुबह को हथेली पे लाके जगाऊँ तुझे
वैसे, बड़े शौक़ से सुनता है ये सारा ज़माना मुझे
मगर मैं यही सोचूँ,
क्या सुनाऊँ तुझे ।

Also Read : बड़ी रात है ओ हमसफ़र

Spread the love
Menu
2
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x